Drama

Yeh Rat Bhigi Bhigi (Chori Chori)

By  | 

Movie: Chori Chori
Release: 1956
Featuring Actors: Nargis, Raj Kapoor
Music Directors: Shankar Jaikishan
Lyrics: Shailendra
Singers: Lata Mangeshkar, Manna Dey
Trivia:

Lyrics in Hindi

यह रात भीगी भीगी
यह मस्त फिजाये
उठा धीरे धीरे वह
चाँद प्यारा प्यारा
यह रात भीगी भीगी
यह मस्त फिजाये
उठा धीरे धीरे वह
चाँद प्यारा प्यारा
क्यों आग सी लगा के
गुमसुम हैं चाँदनी
सोने भी नहीं देता
मौसम का यह इशारा

ीतलती हवा नीलम सा गगन
कलियों पे यह बेहोशी की नमी
ऐसे में भी क्यों बेचैन हैं
दिल जीवन में ना जाने क्या हैं कमी
क्यों आग सी लगा के
गुमसुम हैं चाँदनी
सोने भी नहीं देता
मौसम का यह इशारा
यह रात भीगी भीगी
यह मस्त फिजाये
उठा धीरे धीरे
वह चाँद प्यारा प्यारा

जो दिन के उजाले में ना
मिला दिल ढूँढे ऐसे सपने को
इस रात की जगमग में डूबी
मई ढूंढ रही हूँ अपने को
यह रात भीगी भीगी यह मस्त फिजाये
उठा धीरे धीरे वह
चाँद प्यारा प्यारा
क्यों आग सी लगा के
गुमसुम हैं चाँदनी
सोने भी नहीं देता
मौसम का यह इशारा

ऐसे में कही क्या कोई नहीं
भूले से जो हम को यद् करे
एक हलकी सी मुस्कान से जो
सपनो का जहान आबाद करे
यह रात भीगी भीगी यह मस्त फिजाये
उठा धीरे धीरे वह
चाँद प्यारा प्यारा
क्यों आग सी लगा के
गुमसुम हैं चाँदनी
सोने भी नहीं देता
मौसम का यह इशारा
यह रात भीगी भीगी
यह मस्त फिजाये
उठा धीरे धीरे
वह चाँद प्यारा प्यारा.


Lyrics in English

Yeh rat bhigi bhigi
Yeh mast fijaye
Uthha dhire dhire woh
Chand pyara pyara
Yeh rat bhigi bhigi
Yeh mast fijaye
Uthha dhire dhire woh
Chand pyara pyara
Kyo aag si laga key
Gumsum hain chandani
Sone bhi nahi deta
Mausam kaa yeh ishara

Italati hawa nilam sa gagan
Kaliyo pe yeh behoshi ki nami
Aise me bhi kyo bechain hain
Dil jivan me naa jane kya hain kami
Kyo aag si laga key
Gumsum hain chandani
Sone bhi nahi deta
Mausam kaa yeh ishara
Yeh rat bhigi bhigi
Yeh mast fijaye
Uthha dhire dhire
Woh chand pyara pyara

Jo din key ujale me naa
Mila dil dhundhe aise sapne ko
Iss rat ki jagmag me dubi
Mai dhundh rahi hoo apne ko
Yeh rat bhigi bhigi yeh mast fijaye
Uthha dhire dhire woh
Chand pyara pyara
Kyo aag si laga key
Gumsum hain chandani
Sone bhi nahi deta
Mausam kaa yeh ishara

Aise me kahi kya koyi nahi
Bhule se jo ham ko yad kare
Ek halaki si musakan se jo
Sapno kaa jahan aabad kare
Yeh rat bhigi bhigi yeh mast fijaye
Uthha dhire dhire woh
Chand pyara pyara
Kyo aag si laga key
Gumsum hain chandani
Sone bhi nahi deta
Mausam kaa yeh ishara
Yeh rat bhigi bhigi
Yeh mast fijaye
Uthha dhire dhire
Woh chand pyara pyara.

Leave a Reply