Drama

Zamaane Ki Aankhon Ne (Ek Bar Mooskura Do)

By  | 

Movie: Ek Bar Mooskura Do
Release: 1972
Featuring Actors: Shobhna Samarth, Joy Mukherjee
Music Director: Omkar Prasad Nayyar
Lyrics: S. H. Bihari
Singer: Mohammed Rafi
Trivia:

Lyrics in Hindi

नफ़रत से जिन्हें तुम देखते हो
तुम मरते हो जिन्हे ठोकर
क्या उन पे गुज़रती है देखो
एक बार कभी घायल हो कर

ज़माने की आँखों ने देखा है यारो
ज़माने की आँखों ने देखा है यारो
सदा अपनी दुनिया में ऐसा नज़ारा
कभी उनको फूलों से पूजा है सबने
कभी उनको फूलों से पूजा है सबने
कभी जिनको लोगो ने पत्थर से मारा
ज़माने की आँखों ने देखा है यारो

पइसे न जहां तक पत्थर पे मेहदी
किसी भी तरह रैग लाती नहीं है
हज़ारो जगह ठोकर खा न ले जब तक
कोई ज़िन्दगी मुस्कराती नहीं है
बिना खुद मरे किसको जन्नत मिली है
बिना खुद मरे किसको जन्नत मिली है
बिना दुःख सहे किसने जीवन संवारा
ज़माने की आँखों ने देखा है यारो

भंवर से जो घबरा के पिछे हटे है
डुबो दी है मौजो ने उनकी ही नैया
जो तूफ़ान से टकरा के आगे बढे है
जो तूफ़ान से टकरा के आगे बढे है
बिना कोई मांझी बिना ही खिवैया
कभी न कभी तो कही न कही पर
कभी न कभी तो कही न कही पर
हमेशा ही उनको मिला है किनारा
ज़माने की आँखों ने देखा है यारो

यहां आदमी को सबक दोस्ती का
सिखाते हुए जो लहू में नहाया
मसीहा बना और गाँधी बना वो
हज़ारो दिलो में यहां घर बनाया
उन्ही की बनी है यहाँ यादगारे
उन्ही की बनी है यहाँ यादगारे
उन्ही का ज़माने में चमका सितारा

ज़माने की आँखों ने देखा है यारो
सदा अपनी दुनिया में ऐसा नज़ारा
कभी उनको फूलों से पूजा है सबने
कभी उनको फूलों से पूजा है सबने
कभी जिनको लोगो ने पत्थर से मारा
ज़माने की आँखों ने देखा है यारो.


Lyrics in English

Nafarat se jinhe tum dekhate ho
Tum maarate ho jinhe thokar
Kyaa un pe guzarati hai dekho
Ek baar kabhi ghaayal ho kar

Zamaane ki aankho ne dekhaa hai yaaro
Zamaane ki aankho ne dekhaa hai yaaro
Sadaa apani duniyaa me aisaa nazaaraa
Kabhi unako phulo se pujaa hai sabane
Kabhi unako phulo se pujaa hai sabane
Kabhi jinako logo ne patthar se maaraa
Zamaane ki aankho ne dekhaa hai yaaro

Pise na jahaan tak patthar pe mehadi
Kisi bhi tarah rag laati nahi hai
Hazaaro jagah thokare khaa na le jab tak
Koi zindagi muskaraati nahi hai
Binaa khud mare kisako jannat mili hai
Binaa khud mare kisako jannat mili hai
Binaa dukh sahe kisane jivan sanvaaraa
Zamaane ki aankho ne dekhaa hai yaaro

Bhanvar se jo ghabaraa ke pichhe hate hai
Dubo di hai maujo ne unaki hi naiyaa
Jo tufaan se takaraa ke aage badhe hai
Jo tufaan se takaraa ke aage badhe hai
Binaa koi maanjhi binaa hi khivaiyaa
Kabhi na kabhi to kahi na kahi par
Kabhi na kabhi to kahi na kahi par
Hameshaa hi unako milaa hai kinaaraa
Zamaane ki aankho ne dekhaa hai yaaro

Yahaan aadami ko sabak dosti kaa
Sikhaate hue jo lahu me nahaayaa
Masihaa banaa aur gaandhi banaa vo
Hazaaro dilo me yahaan ghar banaayaa
Unhi ki bani hai yahaan yaadagaare
Unhi ki bani hai yahaan yaadagaare
Unhi kaa zamaane me chamakaa sitaaraa

Zamaane ki aankho ne dekhaa hai yaaro
Sadaa apani duniyaa me aisaa nazaaraa
Kabhi unako phulo se pujaa hai sabane
Kabhi unako phulo se pujaa hai sabane
Kabhi jinako logo ne patthar se maaraa
Zamaane ki aankho ne dekhaa hai yaaro.

Leave a Reply