Drama

Zindagi Zindagi (Chowkidar)

By  | 

Movie: Chowkidar
Release: 1974
Featuring Actors: Sanjeev Kumar, Yogeeta Bali, Vinod Khanna
Music Directors: Madan Mohan Kohli
Lyrics: Rajendra Krishan
Singers:  Asha Bhosle, Mohammed Rafi, Mukesh
Trivia:

Lyrics in Hindi

होए होए होए होए होए
धुप ओ बल्ले धुप ओ बल्ले
हड्डिपा हड्डिपा हड्डिपा
इंसानो से क्यों जिकते हो
तुम भी इंसान हो
हरे बारे ये खेत है मंदिर
जिनके तुम भगवान हो

ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी
छोटी हो या लम्बी हो
हो छोटी हो या लम्बी हो
क्यों बाईट तकरार में
क्यों न गुजरे प्यार में
ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी

मन की खिड़की खोल के रखो
जाने प्यार का जोखा कब आ जाये
नफरत के सब डीप भुजकर
प्रीत के फूल खिल जाये
ज़िन्दगी ज़िन्दगी
क्यों डरिये
सोने के अंगार लगे है धरती पर
हो धरती पर
खुसियो के बाजार सजे है धरती पर
हो धरती पर
म्हणत की तक़दीर है धन धान्य में
और इंसान की तक़दीर है धन धान्य में
धरती दे और बेटे खाये
फिर भी माँ के घुन न गाये
हवानो को कह दो आकर
इंसानों को ये संजय
ज़िन्दगी ज़िन्दगी

क्यों न सब मिल झूल कर बैठे
इक पेड़ की छाया में
इक पेड़ की छाया में
इक पेड़ की छाया में
इक बराबर हिस्सा बाते
इक दूजे की माया में
इक दूजे की माया में
इक दूजे की माया में
हस्ते हस्ते करलो प्यारे
ग़म और खुसियो के बटवारे
प्रीत तेरी सलाह दे दी
सबनम बन जाये अँगरे
ओ दिल ही गंगा
दिल है मथुरा
दिल हो साफ़ तो हर हर दिन होली
हर रात है पूर्ण मासी
ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी जिनदगी
छोटी हो या लम्बी हो
हो छोटी हो या लम्बी हो
क्यों बाईट तकरार में
क्यों न गुजरे प्यार में
ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी.


Lyrics in English

Hoye hoye hoye hoye hoye
Dhup o balle dhup o balle
Haddipa haddipa haddipa
Insano se kyu jikte ho
Tum bi insaan ho
Hare bare ye khet hai mandir
Jinke tum bagwan ho

Zindagi Zindagi Zindagi
Choti ho ya lambi ho
Ho choti ho ya lambi ho
Kyu bite takrar me
Kyu na gujare pyar me
Zindagi Zindagi Zindagi Zindagi

Man ki khadki khol ke rakho
Jaane pyar ka jokha kab aa jaye
Nafrat ke sab deep bhujakar
Preet ke phool khila jaye
Zindagi Zindagi
Kyu dariye,pyar kariye
Sone ke angaar lage hai dharti par
Ho dharti par,ha dharti par
Khusiyo ke bazar saje hai dharti par
Ho dharti par,ha dharti par
Mehnat ki taqdir hai dhane dhane me
Aur insaan ki taqdir hai dhane dhane me
Dharti de aur bete khaye
Fir bhi maa ke ghun na gaaye
Hawano ko kah do aakar
Insaano ko ye samjaye
Zindagi Zindagi

Kyu na sab mil jhul kar baithe
Ik pedh ki chaya me
Ik pedh ki chaya me
Ik pedh ki chaya me
Ik barabar hissa baate
Ik duje ki maaya me
Ik duje ki maaya me
Ik duje ki maaya me
Haste haste karlo pyare
Gham aur khusiyo ke batware
Preet teri salah de di
Sabnam ban jaye angare
O dil hi ganga,dil hi jamuna
Dil hai mathura,dil hi kashi
Dil ho saaf  to har har din holi
Har raat hai puran maasi
Zindagi Zindagi Zindagi jinadgi
Choti ho ya lambi ho
Ho choti ho ya lambi ho
Kyu bite takrar me
Kyu na gujare pyar me
Zindagi Zindagi Zindagi Zindagi.

Leave a Reply