Drama

Andheri Raahon Mein (Dahek: A Restless Mind)

By  | 

Movie: Dahek: A Restless Mind
Release: 2007
Featuring Actors: Sharad S. Kapoor, Amit Khaladkar
Music Directors: Debjit Bera
Lyrics: Kunal Bose
Singers: Abhijeet Bhattacharya
Trivia:

Lyrics in Hindi

अंधेरी राहों में मिले ना मिले हमसफ़र
युही तुम बेफिक्र चलते रहो
निगाहों में कही सपनो का है बसर
सितारों सी रातभर जलते रहो
अंधेरी राहों में मिले ना मिले हमसफ़र
युही तुम बेफिक्र चलते रहो
निगाहों में कही सपनो का है बसर
सितारों सी रातभर जलते रहो
हो खुद पेह हो आइतबार तोह मुमकिन है सभी
जमाना तुमसे है ज़माने से तुम नहीं
अंधेरी राहों में मिले ना मिले हमसफ़र
युही तुम बेफिक्र चलते रहो

धड़कने गए जो सं गुनगुनाये समां
पाओ में हो जमीं सर पेह रहे आसमान
धड़कने गए जो सं गुनगुनाये समां
पाओ में हो जमीं सर पेह रहे आसमान
हौसला कम हो ना कभी चाहे जो हालत हो
बेकसी में छुपी हुई नग्मों को पहचान लो
अंधेरी राहों में मिले ना मिले हमसफ़र
युही तुम बेफिक्र चलते रहो

खो गया जो गया आए ना फिर वह कभी
गम मिले या खुशी शिकवा ना कर ज़िंदगी
खो गया जो गया आए ना फिर वह कभी
गम मिले या खुशी शिकवा ना कर ज़िंदगी
बेजुबान कहवाशियो को तुम अपनी आवाज दो
जी लो जी भर आज तुम फिर यह पल हो ना हो
अंधेरी राहों में मिले ना मिले हमसफ़र
युही तुम बेफिक्र चलते रहो
निगाहों में कही सपनो का है बसर
सितारों सी रातभर जलते रहो.


Lyrics in English

Andheree raho me mile naa mile hamsafar
Yuhee tum befikar chalte raho
Nigaho me kahee sapno kaa hai basar
Sitaro see ratbhar jalte raho
Andheree raho me mile naa mile hamsafar
Yuhee tum befikar chalte raho
Nigaho me kahee sapno kaa hai basar
Sitaro see ratbhar jalte raho
Ho khud peh ho aitbar toh mumkin hai sabhee
Jamana tumse hai jamane se tum nahee
Andheree raho me mile naa mile hamsafar
Yuhee tum befikar chalte raho

Dhadkane gaye jo san gungunaye sama
Pao me ho jamin sar peh rahe aasmaan
Dhadkane gaye jo san gungunaye sama
Pao me ho jamin sar peh rahe aasmaan
Hosla kam ho naa kabhee chahe jo halat ho
Bekasee me chupee huyee nagmo ko pehchan lo
Andheree raho me mile naa mile hamsafar
Yuhee tum befikar chalte raho

Kho gaya jo gaya aaye naa phir woh kabhee
Gum mile ya khushee shikwa naa kar jindagee
Kho gaya jo gaya aaye naa phir woh kabhee
Gum mile ya khushee shikwa naa kar jindagee
Bejuban khawashiyo ko tum apnee aawaaj do
Jee lo jee bhar aaj tum phir yeh pal ho naa ho
Andheree raho me mile naa mile hamsafar
Yuhee tum befikar chalte raho
Nigaho me kahee sapno kaa hai basar
Sitaro see ratbhar jalte raho.

Leave a Reply