Drama

Badal Rahi Zameen (Fashionable Wife)

By  | 

Movie: Fashionable Wife
Release: 1959
Featuring Actors: Jaymala, Abhi Bhattacharya
Music Director: Suresh Talwar
Lyrics:  Bharat Vyas
Singer:  Geeta Dutt
Trivia:

Lyrics in Hindi

बदल रही जमीन
बदल रहा है आस्मां
बदल रही हवाएं
और बदल रहा जहां
बदल रही जमीन
बदल रहा है आस्मां
बदल रही हवाएं
और बदल रहा जहां
बहनों तुम्हारे सामने
सीधा सवाल है
मनुष्य के भविष्य
का तुम्हे ख़याल है
घूंघट निकाल के जो
फूल सूँघती रही
काजल नयन में दाल
फूल सूँघती रही
नायलॉन की साड़ियों में
तन उभारती रही
फैशन परेड में उम्र
गुजारती रही मिट जायेंगे
मिट जायेंगे मुल्क कौम
ये जातियां समाज
जो तुम न थाम लेगी
आज वक़्त की लगाम
बहनों तुम्हारे कन्धों
पे ग़ज़ब का भार है
स्वधर्म की स्वदेश की
तुम्हे पुकार है जागो
जागो भविष्य की माताओं
जागों धरती की सीताओं
जागों कुरआन और गीताओं जागो

विज्ञान का इन्हेँ हुआ
बड़ा गुमान हैं
माना की चन्द्रलोक
में गया विमान है
एटम बनाने वालों
को न इतना ध्यान है
एटम ही पर खड़ा
हुआ इनका मकान है
राकेट बनाके समझते
तरक्की हो गयी
इंसानियत की नींव
आज पक्की हो गयी
दिन रात झूठे ख्वाब
में ही भूलते हैं ये
हो न क्या चाहिए
वो बात भुलते हुए
अपनी अपनी गृशस्थी
छोड़ जाने घुमते किधर
सारे जहां का बस
इन्हीं को है लगा के कल
ताकत बटोरने का है
इन्हें बड़ा नशा
इस कहीं तां में न हो
सभी की दुर्दशा
जागो जागो शान्ति की अवतारी
जागो शाशन की अधिकारी
जागो घर खर की सन्नारी जागो.


Lyrics in English

Badal rahi zameen
Badal raha hai aasmaan
Badal rahi hawaayen
Aur badal rahaa jahaan
Badal rahi zameen
Badal raha hai aasmaan
Badal rahi hawaayen
Aur badal rahaa jahaan
Bahnon tumhaare saamne
Seedhaa sawaal hai
Manushya ke bhavishya
Ka tumhe khayaal hai
Ghoonghat nikaal ke jo
Phool soonghti rahi
Kajal nayan mein daal
Phool soonghti rahi
Nylon ki saadiyon mein
Tan ubhaarti rahi
Fashion parade mein umar
Guzaarti rahi mit jaayenge
Mit jaayenge mulk kaum
Ye jaatiyaan samaaz
Jo tum na thaam logi
Aaj waqt ki lagaam
Bahnon tumhaare kandhon
Pe ghazab ka bhaar hai
Swadharm ki swadesh ki
Tumhe pukaar hai jaago
Jaago bhavishya ki mataaon
Jaagon dharti ki seetaaon
Jaagon kuraan aur geetaaon jaago

Vigyaan ka inhen huaa
Badaa gumaan hain
Maanaa ki chandralok
Mein gayaa vimaan hai
Atom banaane waalon
Ko na itna dhyaan hai
Atom hi par khadaa
Huaa inka makaan hai
Rocket banaake samajhte
Tarakki ho gayi
Insaaniyat ki neenv
Aaj pakki ho gayi
Din raat jhoothhe khwaab
Mein hi bhoolte hain ye
Ho na kyaa chaahiye
Wo baat bhoolte huye
Apni apni grishasthi
Chhod jaane ghoomte kidhar
Saare jahaan ka bas
Inhin ko hai laga ke kal
Taaqat batorne ka hai
Inhen badaa nashaa
Is kheen taan mein na ho
Sabhi ki durdashaa
Jaago jaago shaanti ki avtaari
Jaago shaashan ki adhikaari
Jaago ghar khar ki sannaari jaago.

Leave a Reply