Drama

Do Deewane Shahar Mein (Gharaonda)

By  | 

Movie: Gharaonda
Release: 1977
Featuring Actors: Amol Palekar, Zarina Wahab
Music Director: Jaidev Verma
Lyrics: Gulzar
Singer:  Bhupinder Singh, Runa Laila
Trivia:

Lyrics in Hindi

xहआ
एक दीवाना शहर में
एक दीवाना नहीं
हम्म

दो दीवाने शहर में
दो दीवाने शहर में
रात में या दोपहर में
आब ओ दाना
आब ओ दाना ढूंढते हैं
एक आशियाना ढूंढ़ते हैं
आब ओ दाना ढूंढते हैं
एक आशियाना ढूंढ़ते हैं
दो दीवाने शहर में
रात में या दोपहर में
आब ओ दाना ढूंढते हैं
एक आशियाना ढूंढ़ते हैं
दो दीवाने

इन भूलभुलैय्या गलियों में
अपना भी कोई घर होगा
अम्बर पे खुलेगी खिड़की या
खिड़की पे खुला अम्बार होगा
इन भूलभुलैय्या गलियों में
अपना भी कोई घर होगा
अम्बर पे खुलेगी खिड़की या
खिड़की पे खुला अम्बार होगा
आसमानी रंग की आँखों में
आसमानी या आसमानी
असममि रंग की आँखों में
बसने का बहाना ढूंढते हैं
ढूंढते हैं
आब ओ दाना ढूंढते हैं
एक आशियाना ढूंढ़ते हैं
दो दीवाने शहर में
रात में या दोपहर में
आब ओ दाना ढूंढते हैं
एक आशियाना ढूंढ़ते हैं
दो दीवाने

आए हो
जब तारे ज़मीन पर
तारे और ज़मीन पर
ऑफ़ कोर्स
जब तारे ज़मीन पर चलते हैं
हम्म हम्म
आकाश जमीन हो जाता है
आ आ आ
उस रात नहीं फिर घर जाता
वो चाँद यहीं सो जाता है
जब तारे ज़मीन पर चलते हैं
आकाश जमीन हो जाता है
उस रात नहीं फिर घर जाता
वो चाँद यहीं सो जाता है
पल भर के लिए पल भर के लिए
पल भर के लिए इन आँखों में हम
एक ज़माना ढूंढते हैं
ढूंढते हैं
आब ओ दाना ढूंढते हैं
एक आशियाना ढूंढ़ते हैं
दो दीवाने शहर में
रात में या दोपहर में
आब ओ दाना ढूंढते हैं
एक आशियाना ढूंढ़ते हैं
दो दीवाने दो दीवाने
दो दीवाने दो दीवाने
दो दीवाने. दो दीवाने


Lyrics in English

Haaa, Deewaana
Ek deewaana shahar mein
Ek deewaana nahin, ek deewaani bhi
Hmm

Do deewaane shahar mein
Do deewaane shahar mein,
Raat mein ya dopahar mein
Aab o daanaa
Aab o daanaa dhoondhte hain
Ek aashiyaana dhoondhte hain
Aab o daanaa dhoondhte hain
Ek aashiyaana dhoondhte hain
Do deewaane shahar mein,
Raat mein ya dopahar mein
Aab o daanaa dhoondhte hain
Ek aashiyaana dhoondhte hain
Do deewaane

In bhoolbhulaiyya galiyon mein,
Apnaa bhi koyi ghar hoga
Ambar pe khulegi khidki ya,
Khidki pe khula ambar hoga
In bhoolbhulaiyya galiyon mein,
Apnaa bhi koyi ghar hoga
Ambar pe khulegi khidki ya,
Khidki pe khula ambar hoga
Asmani rang ki ankhon mein
Asamani yaa aasmani
Asmami rang ki aankhon mein
Basne ka bahaana dhoondhte hain,
Dhoondhte hain
Aab o daanaa dhoondhte hain
Ek aashiyaana dhoondhte hain
Do deewaane shahar mein,
Raat mein ya dopahar mein
Aab o daanaa dhoondhte hain
Ek aashiyaana dhoondhte hain
Do deewaane

Aaa ho
Jab taare zameen par
Taare, aur zameen par
Of course
Jab taare zameen par chalte hain
Hmm hmm
Aakaash zameen ho jaata hai
Aa aa aa
Us raat nahin phir ghar jaata,
Wo chaand yahin so jaata hai
Jab taare zameen par chalte hain
Aakaash zameen ho jaata hai
Us raat nahin phir ghar jaata,
Wo chaand yahin so jaata hai
Pal bhar ke liye, pal bhar ke liye
Pal bhar ke liye in aankhon mein ham
Ek zamaana dhoondhte hain,
Dhoondhte hain
Aab o daanaa dhoondhte hain
Ek aashiyaana dhoondhte hain
Do deewaane shahar mein,
Raat mein ya dopahar mein
Aab o daanaa dhoondhte hain
Ek aashiyaana dhoondhte hain
Do deewaane, do deewaane
Do deewaane, do deewaane
Do deewaane.

Leave a Reply