Drama

Kal Raat Gazab Sakhi (Gautam Govinda)

By  | 

Movie: Gautam Govinda
Release: 2002
Featuring Actors: Mithun Chakraborty, Aditya Pancholi, Keerti, Muskan
Music Director: Natraj – Durga
Lyrics: Vinay Bihari
Singer:   Sapna Awasthi Singh, Sushma Shrestha (Poornima)
Trivia:

Lyrics in Hindi

कल रात गज़ब सखि होई गवा रे
कल रात गज़ब सखि होई गवा रे
कल रात गज़ब सखि होई गवा
मैं सोई हुई थी नींद में
मैं सोई हुई थी नींद में
चूड़ी खांकि मेरी
चूड़ी खांकि मेरी होश उडी गवा रे
चूड़ी खांकि मेरी होश उडी गए रे
कल रात गज़ब सखि होई गवा

बजे चूड़ी हो या फिरकी
कोई सपना या सच में था
छोड़ दे शर्मना बतला
राज तो पर्दा ज़रा उठा
बजे चूड़ी हो या फिरकी
कोई सपना या सच में था
छोड़ दे शर्मना बतला
राज तो पर्दा ज़रा उठा
क्यों बजी चुडिया तेरे हाथों की
क्यों बजी चुडिया तेरे हाथों की
कौन सी जो जुल्म सखि कर गवा
कौन सी जो जुल्म सखि कर गवा
बात सच सच कहो मत देर करो
बात सच सच कहो मत देर करो
चूड़ी खांकि फिर आगे क्या हुआ रे
चूड़ी खांकि फिर आगे क्या हुआ रे

सोई थी आधी रात को दरवाजा खोल के
कमरे में था अँधेरा
दो कम्बल ओढ़ के
सोई थी आधी रात को दरवाजा खोल के
कमरे में था अँधेरा
दो कम्बल ओढ़ के
मेरे घर में कोई आया
कम्बल में ाके समाया
चूड़ी जो मेरी खांकि
मैं जागी दिल घबराया
मैं समझी होंगे बालम
धोखे से गलती हो गयी
जाड़े की रात बेदर्दी
बाहों में भरके सो गयी
अरे समझि देवर को सैया जी
अरे समझि देवर को सैया जी
सैया बनके देवर दिल लै गवा रे
सैया बनके देवर दिल लै गवा रे
कल रात गज़ब सखि होई गवा

अँधेरा था अँधेरे की
सुजारिया है खता साडी
के गलती धोके से ही होइ
मगर गलती है ये भरी
अँधेरा था अँधेरे की
सुजारिया है खता साडी
के गलती धोके से ही होइ
मगर गलती है ये भरी
तूने पहचान क्यों नहीं कर लिया
तूने पहचान क्यों नहीं कर लिया
क्यों देवरिया को बाहों में भर लिया
क्यों देवरिया को बाहों में भर लिया
अपने देवर से बचके अब रहना
अपने देवर से बचके अब रहना
अपने बालम को ये सब मत कहना
अपने बालम को ये सब मत कहना.


Lyrics in English

Kal raat gazab sakhi hoi gava re
Kal raat gazab sakhi hoi gava re
Kal raat gazab sakhi hoi gava
Main soi hui thi neend mein
Main soi hui thi neend mein
Chudi khanki meri
Chudi khanki meri hosh udi gava re
Chudi khanki meri hosh udi gaya re
Kal raat gazab sakhi hoi gava

Baje chudi ho ya firki
Koi sapna ya sach mein tha
Chhod de sharmana batla
Raaj to parda zara utha
Baje chudi ho ya firki
Koi sapna ya sach mein tha
Chhod de sharmana batla
Raaj to parda zara utha
Kyo baji chudiya tere hatho ki
Kyo baji chudiya tere hatho ki
Kaun si jo julm sakhi kar gava
Kaun si jo julm sakhi kar gava
Baat sach sach kaho mat der karo
Baat sach sach kaho mat der karo
Chudi khanki phir aage kya hua re
Chudi khanki phir aage kya hua re

Soi thi adhi raat ko darwaja khol ke
Kamre mein tha andhera
Do kambal odh ke
Soi thi adhi raat ko darwaja khol ke
Kamre mein tha andhera
Do kambal odh ke
Mere ghar mein koi aaya
Kambal mein aake samaya
Chudi jo meri khanki
Main jagi dil ghabraya
Main samjhi honge balam
Dhokhe se galti ho gayi
Jade ki raat bedardi
Baaho mein bharke so gayi
Are samjhi devar ko saiya jee
Are samjhi devar ko saiya jee
Saiya banke devar dil lai gava re
Saiya banke devar dil lai gava re
Kal raat gazab sakhi hoi gava

Andhera tha andhere ki
Sujariya hai khata sari
Ke galti dhoke se hi hoi
Magar galti hai ye bhari
Andhera tha andhere ki
Sujariya hai khata sari
Ke galti dhoke se hi hoi
Magar galti hai ye bhari
Tune pehchan kyu nahi kar liya
Tune pehchan kyu nahi kar liya
Kyu devariya ko baaho mein bhar liya
Kyu devariya ko baaho mein bhar liya
Apne devar se bachke ab rehna
Apne devar se bachke ab rehna
Apne balam ko ye sab mat kehna
Apne balam ko ye sab mat kehna.

Leave a Reply