Ghazals

Logon Ke Ghar Mein (Griha Pravesh)

By  | 



Song Info

Movie/Album:Griha Pravesh

Release: 1979

Music Director: Kanu Roy

Lyrics Gulzar

Performed By : Bhupinder Singh

Lyrics in Hindi

लोगों के घर में रहता हूँ  , कब अपना कोई घर होगा 

दीवारों की चिंता रहती है, दीवार में कब  कोई दर होगा 

लोगो के घर—

सब्जी मंडी बाप का घर है, फूल बंगिश पे  मामा का 

श्याम नगर में चाचा का घर, चौक पे  अपनी श्यामा का 

मैके और ससुराल के आगे और भी कोई घर होगा 

दीवारों की चिंता—

लोगो के —

इच्छाओ के भाई इच्छाओ के  भीगे चाबुक 

चुपके चुपके सहता हूँ 

दूजे के घर यूँ लगता है मोज़े पहने रहता हूँ 

नंगे पाँव आँगन में कब बैठूंगा कब  घर होगा 

दीवारों की–

लोगों के घर—

Song Trivia

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Leave a Reply