Drama

Samjhe The Jise Apna (Chand)

By  | 

Movie: Chand
Release: 1944
Featuring Actors: Balakram, Sapru
Music Directors: Bhagatram Batish, Husnlal Batish
Lyrics: Qamar Jalalabadi
Singers: G. M. Durrani
Trivia:

Lyrics in Hindi

समझे थे जिसे अपना
समझे थे जिसे अपना
निकला है वो बेगाना
समझे थे जिसे अपना
निकला है वो बेगाना
तू याद न कर उसको
तू याद न कर उसको
अब ए दिल दीवाना
तू याद न कर उसको
अब ए दिल दीवाना

रोटी नहीं आँखों ने
दो बात ही देखि है
रोटी नहीं आँखों ने
दो बात ही देखि है
एक उनसे नज़र मिलना
एक उनसे नज़र मिलना
एक उनसे बिछड़ जाना
एक उनसे नज़र मिलना
एक उनसे बिछड़ जाना

खाने के लिए ठोकर
पीने के लिए आंसू
खाने के लिए ठोकर
पीने के लिए आंसू
तकदीर में लिखा है
तकदीर में लिखा है
बन बन के बिगड़ जाना
तकदीर में लिखा है
बान बाँके बिगड़ जाना

तक़दीर की मर्ज़ी है
तक़दीर की मर्ज़ी है
सोती है तो सोने से
ए दिल मुझे रोने दे
ए दिल मुझे रोने दे
ए दिल मुझे रोने दे.


Lyrics in English

Samjhe the jise apna
Samjhe the jise apna
Nikla hai wo begana
Samjhe the jise apna
Nikla hai wo begana
Tu yaad na kar usko
Tu yaad na kar usko
Ab aye dile diwana
Tu yaad na kar usko
Ab aye dile diwana

Roti nahi aankho ne
Do baat hi dekhi hai
Roti nahi aankho ne
Do baat hi dekhi hai
Ek unse nazar milna
Ek unse nazar milna
Ek unse bichhad jana
Ek unse nazar milna
Ek unse bichhad jana

Khane ke liye thokar
Peene ke liye aansoo
Khane ke liye thokar
Peene ke liye aansoo
Taqdeer mein likha hai
Taqdeer mein likha hai
Ban ban ke bigad jana
Taqdeer mein likha hai
Ban banke bigad jana

Taqdeer ki marzi hai
Taqdeer ki marzi hai
Soti hai to sone se
Aye dil mujhe rone de
Aye dil mujhe rone de
Aye dil mujhe rone de.

Leave a Reply