Drama

Uski Baari Jo Thi (Ek Alag Mausam)

By  | 

Movie: Ek Alag Mausam
Release: 2003
Featuring Actors: Nandita Das, Anupam Kher
Music Director: Ravi
Lyrics: Kaifi Azmi
Singer: Hariharan
Trivia:

Lyrics in Hindi

उसकी बारी जो थी वो चल दिया
उसकी बारी जो थी वो चल दिया
और कल होगी बारी हमारी
तो हम भी चले जायेंगे
उसकी बारी जो थी वो चल दिया
और कल होगी बारी हमारी
तो हम भी चले जायेंगे

बोज जिसका कभी तो उठाया नहीं
अपने सीने से जिसको लगाया नहीं
बोज जिसका कभी तो उठाया नहीं
अपने सीने से जिसको लगाया नहीं
अब के जब बोज ही बोज रह गया
उसको सीने से अपने लगा भी लिया
खुद के कंधो पे उसको उठा भी लिया
और उठा कर उसे ले चले है वह
और उठा कर उसे ले चले है वह
जिस जगह से कोई वापस आता नहीं
उसकी बारी जो थी वो चल दिया
और कल होगी बारी हमारी
तो हम भी चले जायेंगे

ज़िन्दगी तो चमकती है उम्मीद से
जब ना उम्मीद हो ज़िन्दगी भी नहीं
ज़िन्दगी तो चमकती है उम्मीद से
जब ना उम्मीद हो ज़िन्दगी भी नहीं
कब्र तक ज़िन्दगी का तू दमन न छोड़
अपने एक एक पल से तू सदिया न छोड़
उसकी बारी जो थी वो चल दिया
और कल होगी बारी हमारी
तो हम भी चले जायेंगे
ज़िन्दगी तो चमकती है उम्मीद से
जब ना उम्मीद हो ज़िन्दगी भी नहीं
जब ना उम्मीद हो ज़िन्दगी भी नहीं
जब ना उम्मीद हो ज़िन्दगी भी नहीं.


Lyrics in English

Uski baari jo thi wo chal diya
Uski baari jo thi wo chal diya
Aur kal hogi baari hamari
To hum bhi chale jayenge
Uski baari jo thi wo chal diya
Aur kal hogi baari hamari
To hum bhi chale jayenge

Boj jiska kabhi to uthaya nahin
Apne seene se jisko lagaya nahin
Boj jiska kabhi to uthaya nahin
Apne seene se jisko lagaya nahin
Ab ke jab boj hi boj reh gaya
Usko seene se apne laga bhi liya
Khud ke kandho pe usko utha bhi liya
Aur utha kar use le chale hai waha
Aur utha kar use le chale hai waha
Jis jagah se koi wapas aata nahin
Uski baari jo thi wo chal diya
Aur kal hogi baari hamari
To hum bhi chale jayenge

Zindagi to chamakti hai ummid se
Jab na ummid ho zindagi bhi nahin
Zindagi to chamakti hai ummid se
Jab na ummid ho zindagi bhi nahin
Kabr tak zindagi ka tu daman na chhod
Apne ek ek pal se tu sadiya na chhod
Uski baari jo thi wo chal diya
Aur kal hogi baari hamari
To hum bhi chale jayenge
Zindagi to chamakti hai ummid se
Jab na ummid ho zindagi bhi nahin
Jab na ummid ho zindagi bhi nahin
Jab na ummid ho zindagi bhi nahin.

Leave a Reply